Mp Board Exam 2022 today News लापरवाही : अधूरी तैयारियों के बीच होगी सरकारी स्कूलों में बोर्ड परीक्षा

Mp Board Exam 2022


 • स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री के निर्देश के बाद भी 5वीं एवं 8वीं की परीक्षाएं बोर्ड पैटर्न पर कराने की तैयारियां आधी-अधूरी हैं। बावजूद सरकारी स्कूलों में ही 5वीं एवं 8वीं की परीक्षाएं बोर्ड पैटर्न पर कराई जा रही हैं।

• राज्य शिक्षा केन्द्र ने 5वीं एवं 8वीं की परीक्षाएं बोर्ड पैटर्न पर मार्च में कराने की घोषणा की थी। लेकिन अब अप्रैल में परीक्षा लेने का निर्णय लिया गया है। केवल सरकारी स्कूलों में ही बोर्ड पैटर्न पर 5-8वीं की परीक्षाएं होंगी। निजी स्कूलों को इससे मुक्त रखा गया है। इधर, सरकारी स्कूलों के शिक्षकों का कहना है कि कोरोना के कारण इस साल भी पढ़ाई ठीक से नहीं हो सकी 14 साल बाद आधे छात्र ही देंगे बोर्ड परीक्षा : प्रदेश में 5-8वीं की बोर्ड परीक्षा 2007-08 में बंद कर दी गई थी। आरटीई लागू होने के बाद पहली से 8वीं तक के छात्रों की परीक्षा बंद कर वार्षिक मूल्यांकन शुरू किया गया। आरटीई के तहत किसी भी छात्र को फेल नहीं किया जा सकता था। इससे इसलिए बोर्ड पैटर्न पर परीक्षा से रिजल्ट बिगड़ सकता है  मूल्यांकन में सभी विद्यार्थियों को पास किया जाने लगा। केंद्र की अनुमति से मप्र शासन ने 2019 में आरटीई में संशोधन किया। इसके बाद 2019 में 5-8वीं में बोर्ड पैटर्न पर परीक्षा ली गई, लेकिन कोविड  के कारण दो पेपर नहीं हो पाए।कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए केवल सरकारी स्कूलों में 5वीं एवं 8वीं की परीक्षाएं बोर्ड पैटर्न पर कराई जा रही हैं। प्राइवेट स्कूलों को शामिल नहीं किया है। यह परीक्षा अप्रैल में होनी है।

— केपीएस तोमर, प्रभारी परीक्षा, राज्य शिक्षा केंद्र• Even after the instructions of the Minister of State for School Education, the preparations for conducting the 5th and 8th examinations on the board pattern are incomplete.  Despite this, the examinations of class 5th and 8th are being conducted on the board pattern in government schools only.


 • The State Education Center had announced to conduct the 5th and 8th examinations on the board pattern in March.  But now it has been decided to take the exam in April.  There will be 5-8th examinations on board pattern only in government schools.  Private schools have been exempted from this.  Here, the teachers of government schools say that due to Corona this year also studies could not be done properly, after 14 years only half the students will give the board examination: The board examination of 5-8th in the state was stopped in 2007-08.  After the implementation of RTE, the annual evaluation was started by stopping the examination of students from class 1 to 8.  No student could be failed under RTE.  Because of this, the result of the examination on the board pattern can be spoiled, all the students were passed in the evaluation.  With the permission of the Center, the MP government amended the RTE in 2019.  After this, in 2019, the examination was taken on the board pattern in 5-8th, but due to Kovid, two papers could not be done. In view of the situation of corona infection, only the 5th and 8th examinations in government schools are being conducted on the board pattern.  Private schools are not included.  This exam is to be held in Apri


 — KPS Tomar, Incharge Examination, State Education Centerl.


0 टिप्पणियाँ